Paytm ई-वॉलेट को समझे हिंदी में

Paytm भारत में अपनी ई-वॉलेट सेवाएं देता है वह हमेशा अपने ग्राहकों के बीच बने रहने के लिए कई प्रकार के Offer लांच करता रहता है जिससे Paytm उपयोगकर्ताओं की संख्या अन्य ई-वॉलेट के मुकाबले ज्यादा है Paytm एक प्रकार का ई-वॉलेट है जिसमें आप अपनी बैंक अकाउंट के डेबिट या क्रेडिट कार्ड से मनी को ऐड कर सकते हैं एड करने के बाद आप इसमें मोबाइल प्रीपेड रिचार्ज पोस्टपेड रिचार्ज इलेक्ट्रिसिटी बिल DTH रिचार्ज मूवी टिकट, बस, एयरलाइंस  टिकट खरीद सकते हैं कुल मिलाकर हम यदि कहे कि सारी Most पॉपुलर सर्विस जिनमें वित्तीय लेन-देन होता है,उनमें Paytm अपनी सर्विसेस देता है. यदि आप इसमें एक बार मनी ऐड कर लेते हैं तो आपको अपने डेबिट क्रेडिट कार्ड को यूज करने की जरूरत नहीं है जो मनी आपके द्वारा ऐड की गई है उसी पैसे के द्वारा आप विभिन्न वित्तीय संस्थानों पर उसका उपयोग कर सकते हैं, Paytm का उपयोग लोग इसलिए भी ज्यादा करते हैं क्योंकि यह अलग अलग समय के हिसाब से अपनी सेवाओं को ग्राहकों के बीच में रखता है और बीच-बीच में अनेक कैशबैक जैसे आकर्षक ऑफर निकालता है, जिससे लोग अपने बैंक के क्रेडिट और डेबिट कार्ड का उपयोग ना करते हुए पेटीएम वॉलेट का यूज़ करते हैं इसी सर्विसेस के कारण पेटीएम इतना पॉपुलर हो पाया है.

Paytm केसे कमाता है

Paytm हमेशा से अपने ग्राहकों को अपनी सेवाओं को यूज करने के बदले कुछ पैसे रिफंड के तौर पर देता है जिससे ग्राहक आकर्षित होकर Paytm को यूज करने लगते हैं पर वह इनकम  Paytm अन्य कंपनियों से जनरेट करता है जो हम यूज करते हैं जैसे पेट्रोल पंप मूवी टिकट मोबाइल रिचार्ज DTH रिचार्ज एयरलाइंस टिकट इन कंपनियों से ATM अपना मुनाफा वसूल करता है यह कंपनियां ग्राहकों के उपयोग की गई सेवाओं के बदले में कुछ हिस्सा Paytm को देती है और पेटीएम उसमें से कुछ अपने पास में रखकर अपने ग्राहकों में बांट देता है जिससे ग्राहकों का Paytm में इंटरेस्ट बड़ता रहता है.

Paytm एक प्रकार का ई-वॉलेट है जो बारकोड के रुप में अपनी आइडेंटी को पहचानता है अगर आपका पेटीएम ई-वॉलेट पर अकाउंट है तो आप उसमें अपने एकाउंट का बारकोड जनरेट कर सकते हैं, वह बारकोड को कोई भी पेटीएम यूजर्स स्कैन करके सीधे आपके अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर सकता है वह बारकोड के अंदर कुछ Code होते हैं जिसमें हमारे काउंट की जानकारी होती है, इसके लिए हमें कोई डिजिटल नंबर या फिर हमारा अकाउंट नंबर डालने की जरूरत नहीं होती है यह सब बारकोड में छिपा हुआ होता है, और इसे सिर्फ Paytm ई वॉलेट एप्प के द्वारा ही पहचाना जा सकता है बड़ी-बड़ी मॉल में दुकानों में paytm के बारकोड स्टिकर काउंटर टेबल पर लगे होते हैं ग्राहक अपने बिल के अनुसार उस बारकोड को स्कैन करके सीधे पैसे संबंधित फर्म के अकाउंट में ट्रांसफर कर देते हैं जिससे पेसो के गिनने का झंझट खत्म हो जाती है और डिजिटल इंडिया के तहत कैशलेस को बढ़ावा मिलता कैशलेस होने के कारण इसमें समय और पेपर की बचत होती है.

Paytm की सेवाएं-

पेटीएम अब ई वॉलेट से आगे बढ़कर इसे बैंक में बदलना चाहता है इसके लिए ग्राहकों को केवाईसी फॉर्म सबमिट करना होगा, जिसके बाद ग्राहकों को डिजिटल डेबिट कार्ड भी दिया जाएगा जो इंटरनेट पर ऑनलाइन खरीदी करने के लिए जरूरी होता है, साथ में साथ डेबिट कार्ड लेने पर दो लाख रुपए का बीमा मिलेगा, मृत्यु या पूर्ण रूप से विकलांगता की स्थिति में ग्राहकों को बीमा राशि मिलेगी, यह लेने के लिए आपको केवाईसी प्रक्रिया से गुजरना होगा जिसके बाद डिजिटल कार्ड पेटीएम बैंक की सर्विस का फायदा आप आसानी से उठा सकते हैं

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here